Saturday, August 12, 2017

ये नया युग - This new era


ये नया युग - रवींद्र विक्रम सिंह
सुबह  सुबह धुप  के  संग  खिलते  वो  रंग,
पहली  बारिश  में  भीगी  मिट्टी की  वो सुगन्ध,
हर  समय  वो चिड़ियों का  साथ  देना,
कभी  कभी तितलियों  का हमसे  इतराना,
अब  नही हमारे शहरों कस्बों में ...

अब बस  हम  अकेले  रहते  हैं, 
जूझते  रहते  हैं नई मशीनो से  चौके में,
ना  सर्दी  की  सर्द  पसंद है ना  चैत की गर्मी ,
 ना सावन  के झूले  हैँ ना भादों की बारिश, 
बस मदहोश  पड़े  रहते हैं टीवी  और ऐसी मे...

अब कहाँ  खेलते  हैं हमारे बच्चे  गलियों  में,
अब वो फेसबुक  कंप्यूटर  फ़ोन  पर  लगे  रहते हैं,
अब कहाँ गंदे होते  हैं उनके कपड़े,
कहाँ वो होली  ईद  दीपावली,
नये युग  में हम  सब  कटे  कटे  से रहते हैं ....

अब बाप  कहाँ  डांट पाते  हैं   बच्चों को, 
अब लड़के  सोने  से पहले आई लव  यू  बोलते  हैं,
अब कहाँ शर्माती  हैं  लड़कियाँ  बिना    कपड़ों के,
अब  पैट्रोल डीज़ल का रेट कौन पूछता  है,
अब बस इंटरनेट कनैक्शन के झगड़े  हैं...

कौन सोचता  है अनाज  कहाँ से आय,
कौन देखता  है रातों में तार,
अब कौन ढूँढता है जुगूनुओँ की रोशनी,
अब बाल कटाने में भी  फैशन  के बहाने  हैं,
अब बस फ़िल्मी  हीरो  पर मरती  है जनता ...

ये  नया  युग है,
यहाँ जलाने  के  लिये लकड़ी  नहीं,
 साँस लेने  के लिए साफ हवा  नही,
डाइवोर्स  होते रहते हैं रिश्ते,
यहाँ चादर  है पर सोने के लिए जगह नही...
 <iframe width="560" height="315" src="https://www.youtube.com/embed/sTbVb4LRKI8" frameborder="0" allowfullscreen></iframe>
Translation in English:
This new era - Ravindra Vikram Singh


New Colours with rays of dawn,
Smell of soil in first rain,
Around the clock, chirping of birds
Times when butterfly flirts with us,
Such moments are no longer in our towns…
 

We live alone
Battling with new machines in kitchen,
We neither like cold winter or hot summers,
No the swings in spring, No rains of the season,
We are stuck with TV and AC...



Now, children don’t play in streets,
They are busy with facebook, computer, phone,
Their cloths don’t get soiled,
Neither Holi, Eid, Diwali are same,
New age we live apart and secluded...


When does father scold their children now,
Before sleeping children say “I love you now”,
None gets shy without cloths these days,
Nobody asks for price of petrol or diesel,
Today, we are more worried about data connection...


Who thinks from where the grains come?
Who stars at the stars at night?
Who looks for light of fireflies?
Now hairstyling is more fashionable.
And people are fans only of film stars.

This is a new era
No firewood to burn,
No clear air to breathe,
Relationships are getting divorced,
And there are sheets but no place to sleep…

 
 

RVS

Ravindra Vikram Singh रवींद्र विक्रम सिंह ரவீந்திர விக்ரம் சிங் રવીન્દ્ર વિક્રમ સિંહ రవీంద్ర విక్రమ్ సింగ్ রবীন্দ্র বিক্রম সিং ರವೀಂದ್ರ ವಿಕ್ರಮ್ ಸಿಂಗ್